अन्य

किसी को सदैव दुःख नहीं मिलता या सदैव सुख का भी लाभ नहीं होता- डॉ श्रीमस्तबाबा महाराज

हटा-श्रीकृष्ण प्रणामी मन्दिर माधवमंगल धाम लिधौरा हारट हटा में चल रहे निजनाम तारतम महामंत्र के 400 वां (चतुर्थ शताव्दी पर्व) 2021 के शुभ अवसर पर श्रीमद्भागवत कथा एवं ब्रम्हासान महोत्सव में पन्नाधाम से पधारे कथाबचक संत डॉ मस्तबाबा महाराज ने कथा में कहा कि
महापुरूष कहते है विद्या ज्ञान को न चोर चोरी कर सकता, न राजा अधिपत कर सकता, भाई भी जिसका बटवारा नहीं कर सकता, खर्च करने पर घटती नही बल्कि बढती है,भगवत कथा ऐसी ही सम्‍पति है, विद्वानों की सब जगह पूजा होती है, विद्वता और राज वैभव इन दोनो की तुलना कदापि नही हो सकती है ,राजा तो केवल अपने देश में ही सम्मानित होता है किन्तु विद्वान का सम्मान सर्वत्र होता है। जिसके पास विद्या ज्ञान रूपी सम्‍पति होती है वह सदैव हर जगह पूजनीय रहता है,
महाराज श्री ने रामायण का प्रसंग सुनाते हुए कहा कि करम प्रधान विश्व करि राखा । जो जस करहि सो तस फल चाखा । सारे कर्मो का फल यही मिलता है, जो कार्य कर रहे हो कभी उस पर भी विचार कर लिया करों, लोग क्षणिक सुख के लिए गलत मार्ग अपना लेते है, उसके परिणाम इतने घातक होते है, कि जिन्‍दगी भर उस कलंक को धो नहीं पाते है

उन्‍होने वर्तमान व्‍यवस्‍था पर कटाक्ष करते हुए कहा कि लोग अमीर आदमी के घर लाखों रूपये के उपहार ले जाते है लेकिन गरीब के घर उसका ही खा कर आ जाते है यदि मानव होकर मानव के काम न आ सके तो यह जीवन किस काम का है, पैसा वालो के तो गलत कार्यो पर भी पर्दा डल जाता है, कभी भी गरीबी से विचलित मत होना, जब भी घर से निकलो मुस्‍कराते हुए निकलना, केवल परमात्‍मा पर विश्‍वास रखना, उन्‍होने वर्तमान मित्रता पर भी कहा कि आज की मित्रता केवल भोगता के लिए हो रही है, कभी भी किसी की गरीबी का मजाक नहीं उडाना चाहिए, जरूरतमंद व्‍यक्ति की मदद करने से बढकर कोई मानवता और धर्म नहीं हो सकता है,

विनोद पटैरिया हटा

हुड़दंग न्यूज

हुड़दंग न्यूज (दबंग शहर की दबंग खबरें) संवाददाता की आवश्यकता है- संपर्क कीजिये-  hurdangnews@gmail.com

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button