उत्तर प्रदेश

मारकुंडी घाटी में अनियंत्रित होकर पलटा डीजल लदा टैंकर

गुरमा,सोनभद्र।जिला प्रशासन की उदासीनता एंव वाराणसी-शक्तिनगर मार्ग टोल वसूली कंपनी के घाटी मे दुर्घटना रहित मार्ग न बनाए जाने से दुर्घटनाओ मे लगातार वृद्धि हो रही है जिससे आये दिन होने वाली हादसो मे मौत के साथ गंभीर रूप से जख्मी होकर जान -माल की हानी हो रही है। शनिवार की रात्री लगभग 10:00 बजे डीजल लेकर बभनी जा रही टैंकर मारकुंडी घाटी में अनियंत्रित होकर खाई मे पलट गया गयी,इस हादसे में टैंकर के खलासी की मौके पर ही मौत हो गई।जब की टैंकर पर सवार चालक समेत दो व्यक्ति गंभीर रूप से जख्मी हो गये।घटना के बाबत बताया जाता है की
वाराणसी-शक्तिनगर मार्ग पर चोपन थाना क्षेत्र के मारकुंडी पुरानी घाटी में शनिवार की रात्री लगभग 10:00 बजे डीजल लदा टैंकर घाटी मे अनियंत्रित होकर खाई मे गिर गयी। हादसे में टैंकर के परखच्चे उड़ गए टैंकर में दबे खलासी रोहित कुमार (26) पुत्र जगजीवन राम, निवासी कुनबीपुर, गीर्द बरगंवा,जनपद संत रविदासनगर की दर्दनाक मौत हो गयी। जबकी खाई मे फसे गंभीर रूप जख्मी चालक कुद्दुस खान(30)पुत्र जमाल अहमद,निवासी,पुरानी बाजार,सुरियावां जनपद संत रविदास नगर।एंव दीपक पुत्र संजय,निवासी किरबिल,थाना म्योरपुर,जनपद सोनभद्र,गंभीर रूप से जख्मी हो गये। घटना की सूचना पर तत्काल पहुंचे चौकी प्रभारी गुरमा राजेश सिंह दोनो गंभीर रूप से जख्मी को खाई से स्थानिय लोगो के सहयोग से बाहर निकलवाकर एम्बुलेंस से जिला चिकित्सालय भेजते हुए टैंकर मे बुरी तरह फसे मृत खलासी के शव को बाहर निकालकर अन्तपरिक्षण हेतू जिला चिकित्सालय भेज दिये।मारकुंडी घाटी मे आये दिन हो रहे हादसे पर स्थानिय लोगो ने गहरा आक्रोश जताते हुए जिला प्रशासन के साथ वाराणसी-शक्तिनगर मार्ग की टोल वसूली कम्पनी को पुर्ण रूप से दोषी ठहरा रहे है लोगो की कहना है की मारकुंडी घाटी की पांचों मोड व ढलान ख़तरनाक होने दुर्घटना बाहुल्य क्षेत्र हो गया है। पिछले 5 वर्षों में सैकड़ों से अधिक लोगों की दर्दनाक मौत व हजारो लोग जख्मी हो चुके है बावजूद इस मार्ग दुरस्तीकरण पर कोई कार्रवाई नहीं हो रही है।जब देश की सर्वोच्च न्यायालय ने वाराणसी-शक्तिनगर मार्ग को किलर रोड घोषित किया है।

हुड़दंग न्यूज

हुड़दंग न्यूज (दबंग शहर की दबंग खबरें) संवाददाता की आवश्यकता है- संपर्क कीजिये-  hurdangnews@gmail.com

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button