देश

रायगढ़ में भूस्खलन और इमारत गिरने से 49 की मौत, 70 से ज्यादा लापता

महाराष्ट्र में लगातार हो रही बारिश की वजह से जनजीवन अस्त व्यस्त हो गया है। रायगढ़, रत्नागिरी, पालघर, ठाणे और नागपुर के कुछ हिस्सों में बाढ़ जैसी स्थिति बन गई है। बारिश के कारण राज्य में अभी तक 49 लोगों की जान जा चुकी है।

रायगढ़ के तलई गांव में लगातार हो रही बारिश से पहाड़ का मलबा गिर गया। इसके नीचे 35 घर दब गए। इस हादसे में 36 लोगों की मौत हो गई। वहीं 70 से ज्यादा लोग लापता हो गए हैं। 15 लोगों को बचाया गया है, जबकि 30 से ज्यादा लोग अब भी मलबे में दबे हुए हैं। इसे देखते हुए मृतकों का आंकड़ा और बढ़ सकता है। वहीं सतारा जिले में भूस्खलन की वजह से 8 लोगों की जान चली गई, जबकि मुंबई में एक इमारत गिरने से पांच लोगों की मौत हो गई। राज्य में अभी तक 49 लोगों की मौत हो चुकी है। एनडीआरएफ की टीम राहत और बचाव कार्य में जुटी है। हालांकि, भारी बारिश के कारण राहत कार्य में यहां भारी दिक्कत आ रही है। जिला कलेक्टर, रायगढ़ कलेक्टर निधि चौधरी ने बताया कि जिले में भूस्खलन से कुल 36 लोगों की मौत हुई, इनमें तलाई इलाके में 32 और सखार सुतार वाड़ी में चार की जान चली गई।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने रायगढ़ हादसे पर दुख जताया। पीएम मोदी ने ट्वीट किया ” महाराष्ट्र में बाढ़ के हालात पर पूरी नजर बनी हुई है। पीड़ित परिवारों के प्रति मैं अपनी संवेदना व्यक्त करता हूं। केंद्र सरकार की ओर से पूरी मदद की जा रही है” रायगढ़ हादसे पर गृहमंत्री अमित शाह ने दुख जताया। गृहमंत्री शाह ने मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे और एनडीआरएफ के डीजी से बात कर हरसंभव मदद का भरोसा दिया

महाराष्ट्र में बारिश से होने वाली मौतों के मामले में प्रदेश सरकार मरने वालों के परिजनों को 5 लाख का मुआवजा देगी। प्रदेश के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने ये घोषणा की। इसके अलावा इससे जुड़े हादसों में घायल होने वालों के इलाज का पूरा खर्चा राज्य सरकार उठाएगी। इससे पहले रायगढ़ में भूस्खलन की वजह हुई लोगों की मौत पर प्रधानमंत्री ने दुख जताया था और पीएम रिलीफ फंड से सभी मृतकों के परिजनों को 2- 2 लाख रुपए की राहत देने की घोषणा की थी। वहीं घायलों को 50-50 हजार देने का ऐलान किया है।

हुड़दंग न्यूज

हुड़दंग न्यूज (दबंग शहर की दबंग खबरें) संवाददाता की आवश्यकता है- संपर्क कीजिये-  hurdangnews@gmail.com

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button