भोपालमध्यप्रदेशरीवासतनासिंगरौली

50 प्रोफेसरों की हो चुकी है मौत, स्कूली शिक्षकों का आंकड़ा 350 पार

भोपाल – कोरोना संक्रमण को प्रदेश में ठहरे हुए एक साल से ज्यादा का समय बीत चुका है। इस दौरान करीब पचास विवि और कॉलेज प्रोफेसर और दो दर्जन से ज्यादा कर्मचारियों की मृत्यु कोरोना संक्रमण से ग्रसित होने के कारण हुई है। वहीं एक हजार प्रोफेसर वर्तमान का उपचार ले चुके और ले रहे हैं। इसी तरह करीब 200 कर्मचारी संक्रमण से ग्रसित होकर उपचार ले रहे हैं। कोरोना संक्रमण से ग्रसित कुछ प्रोफसर और कर्मचारियों की स्थिति भी काफी बेहतर नहीं बताई जा रही है। 100 अतिथि विद्वान भी कोरोना संक्रमण का शिकार हुए हैं, जिसमें से करीब एक दर्जन की मौत हो चुकी है। प्रदेश के सभी प्रोफेसर व शिक्षक संघ दिवंगत प्रोफेसर और शिक्षकों को कोरोना योद्धा घोषित करने की मांग कर रहे हैं। सामान्य प्रशासन ने सभी सरकारी संस्थानों में दस फीसदी कर्मचारियों को रोटेशन में बुलाकर कार्य करने का आदेश जारी कर रखा है। इसके बाद भी प्राचार्य अतिथि विद्वानों को जबरिया कॉलेज बुला रहे हैं। इसी के चलते रीवा संभाग में पदस्थ डॉ. श्वेता नीरजा कैमिस्ट्री निधन हुआ गत सप्ताह हुआ है। गर्भवती होने के कारण उसके निधन होने पर अतिथि विद्वान संघ में काफी आक्रोश है। वे शासन से लगातार अतिथि विद्वानों को राहत देने की मांग कर रहे हैं। अतिथि विद्वानों पर नहीं आ रहा रहम शिक्षा विभाग पर कहर बनकर टूटा कोरोना

ये हुए संक्रमण के शिकार भोपाल सुनील कुमार पारे, डॉ. मधु जैन, उज्जैन डॉ. अनुराग टीटो, डॉ. बबिता टीटो, विक्रम विश्वविद्यालय डीएसडब्ल्यू राम कुमार अहिरवार, इंदौर में डॉ. संजय जैन, डॉ. अमिताभ श्रीवास्तव, क्लर्क भानु प्रसाद तिवारी, ग्वालियर में डॉ एसएन दीक्षित, छिंदवाड़ा में डॉ. मीना स्वामी एवं उनके पति तथा रिटायर्ड प्रोफेसर डॉ. डीसी जैन, डॉ. आरएम श्रीवास्तव, डॉ. पीके दुबे। तकनीकी शिक्षा विभाग में एकेएस भदौरिया और एके सिंह शामिल हैं। स्कूल शिक्षा पर लगा ग्रहण स्कूल विभाग के अधिकारी, कर्मचारी और शिक्षक सहित 366 लोगों की कोरोना से मौत हुई है। इसमें सबसे ज्यादा 334 शिक्षकों की संख्या है। साथ ही 19 कर्मचारी, 11 प्राचार्य और 2 अधिकारी शामिल हैं। वहीं कोरोना संक्रमितों में भी 1809 में से 1633 शिक्षक कोरोना संक्रमित हैं। साथ ही 80 प्राचार्य, 73 कर्मचारी व 23 अधिकारी शामिल हैं।

हुड़दंग न्यूज

हुड़दंग न्यूज (दबंग शहर की दबंग खबरें) संवाददाता की आवश्यकता है- संपर्क कीजिये-  hurdangnews@gmail.com

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button