मनोरंजन

Bichhiya design : क्यों पहनती हैं पैर की उंगलियों में बिछिया शादीशुदा औरतें, इसके पीछे की वजह जानें

Bichhiya design : आपने शादीशुदा महिलाओं को बिछिया पहने देखा होगा। बीचिया को शादीशुदा होने का प्रतीक  ( Sign  ) माना जाता है। इसलिए केवल विवाहित स्त्रियां ही बिछिया पहनती हैं। आपको बता दें कि बिछियान सिर्फ पैरों की खूबसूरती बढ़ाता है बल्कि हिंदू धर्म में भी इसका विशेष महत्व है। इसके अलावा बिछुआ पहनने के पीछे कई धार्मिक  (religious ) और वैज्ञानिक कारण भी हैं।

इस लेख को लिखते समय हमने विशेषज्ञ ज्योतिषी आचार्य संतोष तिवारी जी से बात की, बिछिया का महत्व  (Importance ) जानने के लिए, पंडित जी ने हमें विवाहित महिलाओं द्वारा बिछिया पहनने के पीछे की मान्यता और तर्क के बारे में बताया। तो आइए जानकारों से जानें कि हिंदू धर्म में विवाहित महिलाएं झूमर क्यों लगाती हैं।
Bichhiya design : इसका संबंध रामायण काल ​​से है
बिछियापहनने का चलन भारतीय समाज में प्राचीन काल से चला आ रहा है। हम आपको बताते हैं कि रामायण काल ​​में बिछिया होने के प्रमाण मिलते हैं। अहंकारी ( cocky ) रावण द्वारा जब माता सीता का हरण किया गया तो माता सीता ने खुद को पहचानने के लिए घोंसला छोड़ दिया। इसलिए विवाहित महिलाओं ( Women ) के लिए बिछिया पहनना शुभ माना जाता है। कहा जाता है कि यह स्त्री को उसके पति से बांधती है। इसके अलावा नवदुर्गा पूजा के दौरान मां को झांझरी भी पहनाई जाती है।
चांदी की बिछिया के रमणीय डिज़ाइन - DusBus
Bichhiya design : सोलह श्रृंगार के अंग हैं
आचार्य संतोष जी ने बताया कि नीतल दुल्हन के सोलह श्रृंगार का एक अंग है। इसलिए दुल्हन के लिए बिछिया बहुत जरूरी होता है। शादी के बाद हर शादीशुदा महिला अपने दोनों पैरों की उंगलियों में अंगूठी पहनती है। शादीशुदा  (married )  महिलाओं के लिए बीचिया का बहुत महत्व माना जाता है। इसके अलावा, नील को लक्ष्मी का वाहक माना जाता है। इसलिए इन्हें खोना अशुभ माना जाता है।
Bichhiya design : बिछिया चांदी का ही क्यों बनाया जाता है?
क्या आपने कभी सोचा है कि नेट्टल्स सिर्फ चांदी के ही क्यों बनते हैं? अगर नहीं तो आप कह सकते हैं कि इसके पीछे कोई वैज्ञानिक कारण है। हम सभी जानते हैं कि चांदी को एक अच्छा कंडक्टर ( conductor ) माना जाता है। यानी यह हमारे शरीर से नकारात्मक ऊर्जा को दूर कर सकता है। इसलिए बिछिया केवल चांदी का बना होता है और जब महिलाएं इसे पहनती हैं तो इससे उनके शरीर में मौजूद नकारात्मक ऊर्जा दूर हो जाती है।
Toe Ring Designs| बिछिया के खूबसूरत डिजाइन| Silver Bichiya Ke Designs | silver toe ring designs | HerZindagi
Bichhiya design : स्वास्थ्य सुविधाएं
क्या आप जानते हैं कि बिछिया पहनने से न केवल आपके पैर अच्छे दिखते हैं बल्कि इसके कई स्वास्थ्य लाभ भी हैं। जी हां, आयुर्वेद और अन्य वैज्ञानिक  (scientist ) अध्ययनों से पता चला है कि जाली पहनने से शरीर को कई तरह के फायदे होते हैं।
आयुर्वेद के अनुसार दूसरे पैर की नस महिला के गर्भाशय ( Uterus ) से जुड़ी होती है। इसलिए पैर की उंगलियों में बिछिया पहनने से गर्भाशय और हृदय संबंधी रोगों की संभावना कम हो जाती है।
साथ ही बिछिया से हमारी उंगलियों पर पड़ने वाला दबाव, जो पीरियड साइकिल को रेगुलेट करता है। इतना ही नहीं बिछिया धारण करने से एक्यूप्रेशर  (Accupressure ) में भी लाभ मिलता है। ऐसा इसलिए है क्योंकि बिछिया  हमारे पैरों की कुछ नसों को संकुचित कर देता है, जिससे महिला प्रजनन प्रणाली को लाभ होता है।
चांदी की बिछिया / पैर के अंगूठी - डिज़ाइन और कीमत | Silver Toe Rings
Bichhiya design : बिछिया पहनते समय किन बातों का ध्यान रखना चाहिए
Bichhiya design : ताकि आपको कोई परेशानी न हो, खरीदने से पहले बिछिया पहनकर देख लें।
यह भी ध्यान दें कि आपको बिछिया से एलर्जी नहीं है।
हम सभी की त्वचा अलग होती है। इसलिए ऐसे मेटल्स  (metals ) पहनें जो आपकी स्किन टोन से मैच करते हों।
ज्‍यादातर महिलाएं ( Women ) चांदी की अंगूठी पहनती हैं क्‍योंकि इससे शरीर को कई तरह के लाभ मिलते हैं।
Bichhiya design : क्यों पहनती हैं पैर की उंगलियों में बिछिया शादीशुदा औरतें, इसके पीछे की वजह जानें
photo by google

Also Read –  Cement – मकान बनाने खुशखबरी, घट गए सरिया, सीमेंट सहित इन चीजों के दाम

Also Read – Maruti Alto फिर अपने नए अंदाज में,फीचर्स के साथ लुक भी है बहुत जबरदस्त,देखिए

Also Read – Taarak Mehta – नहीं रही दया बैन

Also Read – पांच साल में भी 63 करोड़ के निर्माण कार्य ठण्डे बस्ते में

Important  अपने आसपास की खबरों को तुरंत पढ़ने के लिए एवं ज्यादा अपडेट रहने के लिए आप यहाँ Click करके हमारे App को अपने मोबाइल में इंस्टॉल कर सकते हैं।

हुड़दंग न्यूज

हुड़दंग न्यूज (दबंग शहर की दबंग खबरें) संवाददाता की आवश्यकता है- संपर्क कीजिये-  hurdangnews@gmail.com

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button