जबलपुरमध्यप्रदेश

नकली रेमडेसिविर इंजेशन मामले में विहिप नेता पर केस शराब ठेकेदारों से रिकवरी

जबलपुर । कोरोना कहर में नकली रेमडेसिविर इंजेशन के गोरखधंधे की परत दर परत हो खुलासे ने शहर को चौंका दिया है। गुजरात में पकड़ी गई नकली दवा कंपनी के बाद इंदौर और जबलपुर से हुई आरोपियों की गिरतारी ने एक पूरे ड्रग माफियाओं का कालाबाजारी को उजागर कर दिया है। उक्त मामले में बीती रात पुलिस ने सिटी अस्पताल के संचालक सरबजीत सिंह मोखा सहित तीन अन्य पर विभिन्न धाराओं के तहत प्रकरण दर्ज किया है। पुलिस ने देवेश चौरसिया नामक युवक को गिरतार किया है, वहीं शहरवासियों व मरीजों को धोखा देकर मोखा फरार है, जिसकी तलाश क्राईम ब्राच की टीमें लगी है। उल्लेखनीय है कि गुजरात के मोरबी शहर में पुलिस ने नकली रेमडेसीवर इंजेशन बनाने वाले गिरोह का भंडाफोड़ किया था। जिसके बाद गुजरात पुलिस ने जबलपुर के अधारताल क्षेत्र से दवा सप्लायर सपन जैन पिता राजेन्द्र जैन को हिरासत में लिया था। वहीं इंदौर से सुनील नामक युवक को गिरतार किये जाने व उसके बड़ी तादाद में जबलपुर में नकली रेमडेसिविर इंजेशन खपाएं जाने की सूचना से हड़कंप मच गया था। जिसके बाद पुलिस ने तत्काल ही प्रशासनिक अधिकारियों के साथ मिलकर भगवती फार्मा सहित दो दवा दुकानों को सील कर दिया था। उक्त पूरे मामले में शुरू से ही सिटी अस्पताल के डायरेटर व बिल्डर सरबजीत सिंह मोखा का नाम चर्चाओं में रहा, जो कि वाट्सअप व फेसबुक के माध्यम से उक्त आरोपों को निराधार बताने का दावा करता रहा, लेकिन अब प्रकरण दर्ज होने के बाद से ही मोखा सामने नहीं आ रहा है। सिटी अस्पताल के संचालक सरबजीत मोखा विहिप का भी नेता है, जिसके कई नेताओ से संपर्क है। लेकिन उक्त कोरोना काल में नकली रेमडेसिविर मामले में घिरे मोखा की मुश्किलें अब बढ़ गई हैं। ओमती पुलिस ने मोखा व उनके स्टाफ देवेश चौरसिया सहित अन्य के साथ सपन जैन के खिलाफ धारा 274, 275, 308, 420, 120 ए, 53 आपदा प्रबंधन अधिनियम के तहत प्रकरण दर्ज किया है।

हुड़दंग न्यूज

हुड़दंग न्यूज (दबंग शहर की दबंग खबरें) संवाददाता की आवश्यकता है- संपर्क कीजिये-  hurdangnews@gmail.com

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button