क्राईम न्यूजमध्यप्रदेशसतना

चित्रकूट हत्याकांड- आज अदालत सुना सकती है फैसला

सतना। आयुर्वेदिक तेल कारोबारी के जुड़वा बेटों को अगवा कर फिरौती वसूलने के उपरांत बेरहमी पूर्वक हत्या कर लाश को यमुना नदी में फेक देने के बहुचर्चित मामले का फैसला सोमवार को आ सकता है। अदालत के फैसले पर पीड़ित परिवार के अलावा आम जनमानस की निगाह टिकी हुई हैं। इस मामले के पांच आरोपी सेंट्रल जेल में बंद हैं जबकि एक आरोपी जेल में फांसी लगाकर खुदकुशी कर चुका है।.

जुड़वा भाईयों प्रियांश और श्रेयांश को अगवा करने के बाद अपहरणकर्ताओं ने आयुर्वेदिक तेल कारोबारी बृजेश रावत को अलग-अलग ऐप के माध्यम से फोन पर 2 करोड़ रुपए की फिरौती मांगी। अपने जुड़वा बेटों की जान बचाने के लिए श्री रावत अपहरणकर्ताओं की बात मानने से राजी हो गए। 2 करोड़ की डिमांड करने वाले अपहरणकर्ताओं ने 20 लाख रुपए में बच्चों को छोड़ने की सहमति जताई। पुलिस की जानकारी में आयुर्वेदिक तेल कारोबारी के द्वारा अपहरणकर्ताओं को 20 लाख रुपए की फिरौती की रकम पहुंचाई गई। फिरौती की रकम देने के बाद भी अपहरणकर्ताओं ने मासूम जुड़वा भाईयों को रिहा नहीं किया।

12 फरवरी 2019 को कर्वी जिले के सीतापुर चौकी अन्तर्गत रामघाट निवासी आयुर्वेदिक तेल कारोबारी बृजेश रावत के जुड़वा बेटे प्रियांश और श्रेयांश सद्गुरू पब्लिक स्कूल जानकीकुंड पढने आए हुए थे। छुट्टी होने के उपरांत श्रेयांश और प्रिंयांश स्कूल बस में बैठे। इसी दौरान बाइक सवार दो बदमाश आए, पिस्टल की नोक पर दोनों बदमाशों ने बस में चढकर प्रियांश और श्रेयांश को अगवा कर लिया था।

जिला पुलिस के द्वारा जुड़वा भाइयों को अगवा कर फिरौती की रकम वसूलने के बाद उनकी निर्मम हत्या करने के आरोप में मास्टर माइंड पदमकांत शुक्ला पिता रामकरण शुक्ला निवासी जानकीकुंड, विक्रम जीत सिंह पिता प्रहलाद सिंह निवासी भमामा थाना जमुई बिहार, राजू द्विवेदी पिता राकेश द्विवेदी निवासी भमुआ, लकी तोमर पिता सतेन्द्र तोमर निवासी तेंदुरा थाना बिसण्डा, रामकेश यादव पिता रामशरण यादव, पिंटा यादव पिता रामस्वरूप यादव को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया था। जेल में आरोपी रामकेश ने फांसी लगाकर खुदकुशी कर ली थी। रामकेश जुड़वा भाईयों को ट्यूशन पढाता था और उसी ने दोनों को अगवा कर मोटी रकम फिरौती में वसूलने का प्लान वारदात के मास्टर माइंड पदमकांत शुक्ला के साथ मिलकर तैयार किया था।

सतना पुलिस के द्वारा अपहरणकर्ताओं को धर दबोचा गया तब पता चला कि जुड़वा भाइयों की हत्या कर लाश को यमुना नदी में फेंक दिया गया है। अपहरकर्ताओं की निशानदेही पर यमुना नदी के अगौसी घाट से 23 फरवरी 2019 की देर रात प्रियांश और श्रेयांश की लाश को बरामद किया गया था। दिनदहाड़े मासूमों के अपहरण के बाद उनकी हत्या दिल दहला देने वाली घटना के बाद जनता का आक्रोश भड़क उठा था। आक्रोशित जनता सड़कोें पर उतर आई थी।

हुड़दंग न्यूज

हुड़दंग न्यूज (दबंग शहर की दबंग खबरें) संवाददाता की आवश्यकता है- संपर्क कीजिये-  hurdangnews@gmail.com

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button