भोपालमध्यप्रदेश

कमला नेहरू अस्पताल के बच्च वार्ड में लगी आग, चार बच्चों की मौत

राजधानी भोपाल के सरकारी हमीदिया अस्पताल परिसर के कमला नेहरू अस्पताल में सोमवार रात 9 बजे भीषण आग लग गई। आग कमला नेहरू अस्पताल की तीसरी मंजिल पर लगी है। खासी मशक्कत के बाद आग को बुझा लिया गया। इस दौरान वहां भर्ती करीब पचास बच्चों को निकालकर अन्य स्थान पर भेज दिया गया। आग लगने से इलाके में खासा धुआं भी फैल गया था।

बताया जा रहा है कि सीएम शिवराज भी हालातों पर नजर रखे हुए हैं। कुछ बच्चों के झुलसने की भी जानकारी मिली है। आग लगने के दौरान बड़ी संख्या में बच्चों के परिजन अस्तपाल के बाहर जमा हो गए थे। इनमें अस्पताल प्रबंधन के प्रति आक्रोश साफ देखा जा रहा था। अनेक बच्चों का उपचार जारी है। कुछ की हालत गंभीर बताई जा रही है। आग का कारण शार्ट सर्किट बताया जा रहा है मौत का आंकड़ा बढ़ने की आशंका जताई जा रही है। एसपी ने कहा कि आग पर काबू पाकर सभी बच्चों को सुरक्षित निकाल लिया गया।

राजधानी के हमीदिया अस्पताल कैंपस में सोमवार रात करीब 8.40 बजे आग लग गई। यह आग कमला नेहरू बिल्डिंग के तीसरी मंजिल पर स्थित चिल्ड्रन वार्ड में लगी । हादसे में चार बच्चों की मौत हो गई । वार्ड में 40 बच्चे भर्ती थे। बाकी बच्चों को सकुशल बचा लिया गया है। इनमें से 36 बच्चों का इलाज जारी है। रेस्यू आपरेशन के दौरान छह कर्मचारियों के भी झुलसने की खबर है, जिसमें से एक की हालत गंभीर है। हालांकि खबर लिखे जाने तक इसकी पुष्टि नहीं हुई थी। चिकित्सा शिक्षा मंत्री विश्वास सारंग मौके पर मौजूद हैं। फायर ब्रिगेड और पुलिस बल भी मौके पर पहुंच गए हैं। राज्य सरकार ने मृत बच्चों के परिजनों को 4- 4 लाख मुआवजे का ऐलान किया है। हादसे की वजह अभी साफ नहीं है । प्रारंभिक तौर पर आग लगने का कारण शार्ट सर्किट बताया जा रहा है। बताया जा रहा है कि जिस चिल्ड्रन वार्ड में आग लगी , उसे नई बिल्डिंग में शिट किया जाना था, उससे पहले हादसा हो गया। कई लोगों को स्ट्रेचर से बाहर निकालकर दूसरे अस्पताल में शिट किया जा रहा है। बच्चों के परिजनों को अंदर नहीं जाने दिया जा रहा है। ऐसे में बच्चों को ढूंढने के लिए अफरा-तफरी मच गई है। अस्पताल में आग लगने की खबर मिलते ही प्रशासनिक हलके में खलबली मच गई । चिकित्सा शिक्षा मंत्री विश्वास सारंग, डीआईजी इरशाद वली समेत पुलिस के आला अफसर और संभागायुक्त गुलशन बामरा अस्पताल पहुंचे। डॉटरों की टीम को भी फौरन कमला नेहरू अस्पताल बुला लिया गया। आग बुझाने के लिए फतेहगढ़ , बैरागढ़ और पुल बोगदा फायर स्टेशनों से पहुंची 11 दमकलों ने आग बुझाना शुरू किया और रात 9.45 तक हालात काबू में कर लिये। धुआं ज्यादा होने के कारण रेस्यू में दि कत ङुई । रेस्यू आपरेशन के दौरान फेफड़ों में धुआं भर जाने के कारण पांच नर्सों को कैजुअल्टी वार्ड में भर्ती कराया गया है।

कमला नेहरू अस्पताल के बच्च वार्ड में लगी आग, चार बच्चों की मौत
कमला नेहरू अस्पताल के बच्च वार्ड में लगी आग, चार बच्चों की मौत

सीपीए के पास है मर�मत का जि�मा

जिस बिल्डिंग में आग लगी है, उसके बिजली के मेंटनेंस का काम सीपीए के पास है। यह वही संस्था है जिसे मुख्यमंत्री शिवराजसिंह चौहान नाराज होकर बंद करने का आदेश दे चुके हैं। हालांकि, यह पता नहीं चला है कि आग शार्ट सर्किट से लगी या अन्य वजह है। हमीदिया अस्पताल परिसर में 7 अक्टूबर को भी नई बिल्डिंग में दूसरे तल पर ठेकेदार के स्टोर रूम में गुरुवार सुबह आग लग गई थी। फायर ब्रिगेड की पांच गाड़ियों ने एक घंटे में आग पर काबू पाया। राहत की बात यह है कि कोई जनहानि नहीं हुई थी। परिजनों ने बच्चों के साथ परिजन बच्चों के साथ अनहोनी की आशंका से परेशान है और बच्चों से मिलवाने की जिद पर अड़े हुए हैं। कमला नेहरू अस्पताल के बाहर परिजनों ने प्रशासन के खिलाफ नारेबाजी शुरू कर दी है।

हुड़दंग न्यूज

हुड़दंग न्यूज (दबंग शहर की दबंग खबरें) संवाददाता की आवश्यकता है- संपर्क कीजिये-  hurdangnews@gmail.com

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button