अन्यदेश

IAF MI-17 V5 Crash: अलविदा बिपिन रावत! जानें उनकी ज़िंदगी के अनछुए पहलू

नई दिल्ली: तमिलनाडु में हुए आर्मी हेलकॉप्टर हादसे में देश के पहले CDS बिपिन रावत शहीद हो गए हैं। बता दें कि सेना का हेलीकॉप्टर IAF MI-17 V5 बुधवार दोपहर क्रैश हो गया था, जिसमें देश के पहले सीडीएस विपिन रावत समेत 14 लोग मौजूद थे।

इस हादसे में सीडीएस रावत की पत्नी मधुलिका रावत सहित 13 सवारों की मौत हो गई है। भारतीय वायुसेना ने इस क्षति की पुष्टि कर दी है। इस हादसे में सिर्फ़ भारतीय वायु सेना के ग्रुप कैप्टन वरुण सिंह बचे हैं और उनका इलाज जारी है।

बिपिन रावत का जन्म 16 मार्च, 1958 को उत्तराखंड के पौड़ी गढ़वाल में हुआ था। रावत के पिता लक्ष्मण सिंह रावत भी सेना में थे और लेफ्टिनेंट जनरल पद से रिटायर हुए। रावत की शुरुआती पढाई सेंट एडवर्ड स्कूल शिमला में हुई। इसके बाद की शिक्षा उन्होंने इंडियन मिलिट्री अकेडमी, देहरादून से पूरी की। उन्होंने अमेरिका में वेलिंगटन के डिफेंस सर्विसेज स्टाफ कॉलेज से उन्होंने ग्रेजुएशन की डिग्री ली।

बिपिन रावत सेना से दिसंबर-1978 में जुड़े। सेना को अपनी सेवाएं देने के दौरान बिपिन रावत अनेक पदों पर रहे। इंडियन मिलिट्री एकेडमी, देहरादून में भी उनकी तैनाती रही। रावत मिलिट्री ऑपरेशंस डायरेक्टोरेट में वे जनरल स्टाफ ऑफिसर ग्रेड 2 रहे। लॉजिस्टिक स्टाफ ऑफिसर, कर्नल मिलिट्री सेक्रेटरी, डिप्यूटी मिलिट्री सेक्रेटरी, जूनियर कमांड विंग में सीनियर इंस्ट्रक्टर जैसे कई पदों पर भी रहे।

ऊंची चोटियों की लड़ाई में बिपिन रावत को महाराथ हासिल थी और दुर्दांत इलाकों में उन्होंने आतंकवादी व उग्रवादी गतिविधियों से निपटने के लिए कई ऑपरेशन चलाए। बिपिन रावत को काउंटर इंसर्जेंसी का विशेषज्ञ माना जाता था।

नॉर्थ ईस्ट में चीन से सटे लाइन ऑफ एक्चुएल कंट्रोल पर उन्होंने एक इंफैंट्री बटालियन को कमांड किया। वहीं, कश्मीर घाटी में राष्ट्रीय राइफल्स और इंफैंट्री डिवीजन के वे कमांडिंग ऑफिसर रहे।

उन्होंने पूर्वोत्तर में आतंकवाद को कम करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई थी। उनके करियर के मुख्य पड़ाव के तौर पर 2015 में म्यांमार में एनएससीएन-के आतंकवादियों द्वारा घात लगाकर किए गए हमले के लिए भारतीय सेना की सफल प्रतिक्रिया को देखा जाता है। रावत के दिशानिर्देशों में इस मिशन को दीमापुर बेस्ड III कॉर्प्स स्थित ऑपरेशन कमांड से अंजाम दिया गया था।

इसके अलावा बिपिन रावत ने 2016 की सर्जिकल स्ट्राइक की योजना में भी मुख्य भूमिका निभाई थी, जिसमें भारतीय सेना ने एलओसी को पार करके पाकिस्तान के कब्जे वाले कश्मीर में प्रवेश किया था। बताया जाता है कि उस ऑपरेशन के दौरान रावत नई दिल्ली के साउथ ब्लॉक से पूरे हालात पर नजर रख रहे थे।

अपनी 40 वर्ष से अधिक सेवा अवधि के दौरान रावत को परम विशिष्ट सेवा पदक, उत्तम युद्ध सेवा पदक, अति विशिष्ट सेवा पदक, विशिष्ट सेवा पदक, युद्ध सेवा पदक और सेना पदक के साथ वीरता और विशिष्ट सेवा के लिए सम्मानित किया गया। .

रावत ने अपनी चार दशकों की सेवा के दौरान ब्रिगेड कमांडर, जनरल ऑफिसर कमांडिंग-इन-चीफ (जीओसी-सी) दक्षिणी कमान, सैन्य संचालन निदेशालय में जनरल स्टाफ ऑफिसर ग्रेड 2, सैन्य सचिव की शाखा में कर्नल सैन्य सचिव और उप सैन्य सचिव और वरिष्ठ प्रशिक्षक के रूप में कार्य किया।

उन्होंने संयुक्त राष्ट्र शांति सेना के सदस्य के रूप में भी काम किया और कांगो लोकतांत्रिक गणराज्य में एक बहुराष्ट्रीय ब्रिगेड का नेतृत्व किया।

17 दिसंबर, 2016 को, रावत ने 27वें सेनाध्यक्ष (सीओएएस) के रूप में जनरल दलबीर सिंह सुहाग के बाद भारतीय सेना की बागडोर संभाली।

बाद में 31 दिसंबर, 2019 को उन्होंने भारत के पहले चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ बनकर इतिहास रच दिया। सरकार ने सेवानिवृत्ति की आयु 62 से बढ़ाकर 65 वर्ष करने के लिए सेना नियमों में संशोधन के ज़रिए रावत की नियुक्ति का मार्ग प्रशस्त किया। रावत ने चीफ ऑफ स्टाफ कमेटी (COSC) के स्थायी अध्यक्ष के रूप में भी काम किया।

सीडीएस की भूमिका सेना से संबंधित मामलों पर सरकार के लिए एक सूत्री सलाहकार होना है और तीन सेवाओं- सेना, नौसेना और वायु सेना को एकीकृत करने के मुख्य उद्देश्य के साथ कार्य करना है।

 

रावत की योजना के अनुसार, थिएटर मॉडल ने भविष्य के युद्धों और संचालन के लिए सेना के संसाधनों का सर्वोत्तम उपयोग करने के लिए चार नए एकीकृत कमांड – दो भूमि-केंद्रित थिएटर, एक वायु रक्षा कमांड और एक समुद्री थिएटर कमांड स्थापित करने की मांग की।

उन्होंने सशस्त्र बलों के सैनिकों के आधुनिकीकरण की भी शुरुआत की और प्रमुख सैन्य प्लेटफार्मों की कंपित खरीद के एक नए दृष्टिकोण को भी लाए।

सुप्रीम कोर्ट द्वारा समलैंगिक सेक्स को अपराध की श्रेणी से बाहर करने के बाद जनरल रावत ने कहा, ‘हम सेना में ऐसा नहीं होने देंगे।’ यह कहते हुए कि सेना कानून से ऊपर नहीं है, लेकिन एलजीबीटी (लेस्बियन, गे, बाइसेक्सुअल और ट्रांस) से संबंधित मुद्दों को सेना अधिनियम की विभिन्न धाराओं के तहत निपटाया जाएगा।

दिसंबर 2019 में, उन्होंने नागरिकता संशोधन अधिनियम के विरोध पर भी टिप्पणी की और कहा कि छात्रों को “अनुचित दिशाओं” में ले जाया जा रहा है।

हुड़दंग न्यूज

हुड़दंग न्यूज (दबंग शहर की दबंग खबरें) संवाददाता की आवश्यकता है- संपर्क कीजिये-  hurdangnews@gmail.com

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button