देश

Independence children : बच्चों को जिम्मेदार बनाना चाहती हैं तो सिखाएं देशभक्ति का मतलब

Independence children : बचपन में 26 जनवरी को लेकर बहुत उत्साह रहता था. देश के लिए झंडा बनाना, देशभक्ति के गीत और स्वतंत्रता सेनानियों की कहानियाँ सुनना बहुत रोमांचक था। आज़ादी के गीत गाना और नाचना तथा नाटकों में भाग लेना एक आंतरिक ख़ुशी की अनुभूति थी।

Independence children : बच्चों को जिम्मेदार बनाना चाहती हैं तो सिखाएं देशभक्ति का मतलब
photo by social media
  • Independence children : आज के समय में देश की आजादी का जश्न और भी धूमधाम से मनाया जा रहा है. हर गली-मोहल्ले में लोग एकत्रित होते हैं, देशभक्ति के गीत गाते हैं और ध्वजारोहण के कार्यक्रम होते हैं। सांस्कृतिक कार्यक्रम आयोजित किए जाते हैं और बच्चों के लिए कई मनोरंजक गतिविधियाँ होती हैं।

Independence children इस दौरान हमारे लिए इस बात पर ध्यान देना जरूरी है कि बच्चे इससे सीख रहे हैं या नहीं। आजादी का जश्न न सिर्फ देश की ऐतिहासिक कहानी बताता है, बल्कि यह आपके बच्चे को भी बहुत कुछ सिखाता है। आइए जानें देश की आजादी का जश्न मनाकर आप अपने बच्चे को क्या सीख दे सकते हैं-

Independence children : बच्चों को देश की महान विभूतियों जैसा बनना चाहिए

देश की आजादी के साथ देश के हर नागरिक की आजादी जुड़ी हुई है। महिलाएं अपने बच्चों को सिखा सकती हैं कि बच्चों के लिए स्वतंत्र होना कितना महत्वपूर्ण है और स्वतंत्रता के अधिकार का उपयोग जिम्मेदारी से कैसे किया जा सकता है। स्वतंत्रता सेनानियों ने अपने प्राणों की आहुति देकर देश की आजादी सुनिश्चित की।

Independence children : बच्चों को जिम्मेदार बनाना चाहती हैं तो सिखाएं देशभक्ति का मतलब
photo by social media
  • बच्चों को बताएं कि उन वीर शहीदों के लिए देश की आजादी की भावना कितनी महत्वपूर्ण थी। जब आप अपने बच्चों को जवाहरलाल नेहरू, बाल गंगाधर तिलक, महात्मा गांधी, सुभाष चंद्र बोस, बिपिन चंद्र पाल, लाला लाजपत राय, चंद्रशेखर आज़ाद जैसी देश की महान हस्तियों के बारे में बताएंगे, तो वे भी उनके व्यक्तित्व और इच्छाशक्ति से प्रेरित होंगे। वे देश के नेता बनते हैं, उनके मन में कुछ करने की इच्छा जागती है।

Independence children : बच्चों को उचित मार्गदर्शन दें

देश के प्रति समर्पण की भावना बच्चों को उद्देश्य की एक बड़ी भावना प्रदान कर सकती है, जो उन्हें कड़ी मेहनत करने और अपने काम में सुधार करने के लिए प्रेरित करेगी। इससे बच्चे उत्साहित होकर बड़े-बड़े काम पूरा करने के बारे में सोचते हैं, खुद को अनुशासित रखते हैं और छोटी-छोटी कठिनाइयों से डरने के बजाय अच्छी आदतें विकसित करते हैं।

Also Read –  Bridal Mehndi Design : मेहंदी की ये खूबसूरत डिज़ाइन ब्राइडल के हाथो पर खूब जचेगी

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button