देश

Maa chandraghanta Aarti: मां चंद्रघंटा की पूजा से बढ़ता है साहस, जानें आरती और कथा

Maa chandraghanta Aarti –  शारदीय नवरात्रि 2022 को मां चंद्रघंटा की पूजा की जाएगी. देवी चंद्रघंटा की पूजा साधक को वीर और पराक्रमी होने का वरदान भी देती है। जानिए मां चंद्रघंटा की आरती और कथा।

Maa chandraghanta Aarti – मां चंद्रघंटा की आरती
28 सितंबर 2022 को नवरात्रि की तीसरी शक्ति देवी चंद्रघंटा की पूजा की जाएगी। इस दिन मंगल के अशुभ प्रभाव से पीड़ित लोगों को चंद्रघंटा देवी की पूजा अवश्य करनी चाहिए।

Maa chandraghanta Aarti: मां चंद्रघंटा की पूजा से बढ़ता है साहस, जानें आरती और कथा
PHOTO BY GOOGLE

कुण्डली में मंगल प्रदूषण के कारण क्रोध, रोगों के कारण बेचैनी जैसे कई लक्षण दिखाई देते हैं। मंगल को साहस और शक्ति का प्रतीक माना जाता है। वहीं देवी चंद्रघंटा की पूजा करने से वीर और पराक्रमी होने का वरदान मिलता है। ऐसी अवस्था में देवी की पूजा करने से मंगल के दुष्प्रभाव कम हो जाते हैं। आइए जानते हैं मां चंद्रघंटा की आरती और कथा।

Maa chandraghanta Aarti – मां चंद्रघंटा की आरती

जय माँ चंद्रघंटा सुख धाम।

मेरा सारा काम खत्म करो

चन्द्रमा के समान आप शीतलता के दाता हैं

चंद्रमा की तेज किरणें अवशोषित हो जाती हैं।

शांत क्रोध

मृदु भाषी।

मन का स्वामी मन को प्रसन्न करता है।

तुम चाँद की घंटी हो।

एक अच्छा एहसास लाता है।

हर संकट में एक रक्षक।

हर बुधवार को कौन आपकी परवाह करता है?

इसे विनम्रता और सम्मान से कहें।

मूर्ति को चंद्र आकार दें।

अपने सामने घी जलाएं।

उसने सिर झुकाकर अपने मन की बात कही।

आशा से भरपूर, सांसारिकता।

कांचीपुरम में आपका स्थान।

कर्नाटक में आपका सम्मान।

नाम तेरा रतन महारानी।

भक्त भवानी बचाओ।

Maa chandraghanta Aarti – मां चंद्रघंटा की कहानी

पौराणिक कथा के अनुसार, असुरों के स्वामी महिषासुर ने इंद्रलोक और स्वर्गलोक में अपना वर्चस्व स्थापित करने के लिए देवताओं पर हमला किया था। कई दिनों तक देवताओं के बीच युद्ध होता रहा। स्वयं को युद्ध में पराजित देखकर सभी देवता त्रिमूर्ति अर्थात ब्रह्मा, विष्णु और महेश के पास पहुंचे। तीनों के क्रोध से मां चंद्रघंटा का जन्म हुआ।

Maa chandraghanta Aarti – ऐसे हुई मां चंद्रघंटा की उत्पत्ति

शिव ने असुरों को मारने के लिए त्रिशूल, भगवान विष्णु को पहिया, इंद्रदेव को घड़ी और माता सूर्य चंद्रघंटा को तलवार दी। नवरात्रि के अंतिम दिन देवी चंद्रघंटा ने महिषासुर का वध कर विजय प्राप्त की और धर्म जगत की रक्षा की।

Maa chandraghanta Aarti: मां चंद्रघंटा की पूजा से बढ़ता है साहस, जानें आरती और कथा
PHOTO BY GOOGLE

Also Read –  Cement – मकान बनाने खुशखबरी, घट गए सरिया, सीमेंट सहित इन चीजों के दाम

Also Read – Maruti Alto फिर अपने नए अंदाज में,फीचर्स के साथ लुक भी है बहुत जबरदस्त,देखिए

Also Read – Taarak Mehta – नहीं रही दया बैन

Also Read – पांच साल में भी 63 करोड़ के निर्माण कार्य ठण्डे बस्ते में

Important  अपने आसपास की खबरों को तुरंत पढ़ने के लिए एवं ज्यादा अपडेट रहने के लिए आप यहाँ Click करके हमारे App को अपने मोबाइल में इंस्टॉल कर सकते हैं।

Important :  हमारे Whatsapp Group से जुड़ने के लिए यहाँ Click here करें। 

हुड़दंग न्यूज

हुड़दंग न्यूज (दबंग शहर की दबंग खबरें) संवाददाता की आवश्यकता है- संपर्क कीजिये-  hurdangnews@gmail.com

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button