मनोरंजन

Mangalsutra : मंगलसूत्र खरीदते समय अगर दिन का रखेंगे ध्यान तो आपके वैवाहिक जीवन में नहीं आएगी समस्याएं

Mangalsutra : मंगलसूत्र शादीशुदा महिलाओं की पहचान माना जाता है मंगलसूत्र  (Mangalsutra) दुल्हन के सोलह सिंगार में से एक ऐसा प्रतीक माना जाता है जिसे दूल्हा – दुल्हन के गले में पहनता है और इसे एक शादी को पूर्णता करता है,

Mangalsutraमंगलसूत्र खरीदते समय अगर दिन का रखेंगे ध्यान तो आपके वैवाहिक जीवन में नहीं आएगी समस्याएं
photo by social media

मंगलसूत्र को एक धागे में पिरोए गए काले मोतियों के रूप में देखा जाता है जिसमें सोने का लॉकेट होता है इससे शादी ( Wedding ) के समय दूल्हा-दुल्हन को पहनता है।

मंगलसूत्र हर एक विवाहित महिलाओं  (Waomn )  के लिए जरूरी माना जाता है, अगर आप नया मंगलसूत्र खरीदने जा रही हैं तो कुछ विशेष दिनों का भी ध्यान रखना चाहिए और कुछ समय इसे खरीदने से बचना चाहिए जिसे दिनों का ध्यान रखकर मंगलसूत्र खरीदेंगे तो आपकी वैवाहिक जीवन सुख से बीतेगा, तो आपको मंगलसूत्र खरीदने के नियमों के बारे में बताएंगे।

Mangalsutra : मंगलसूत्र का अर्थ और इतिहास

मंगल और सूत्र से मिलकर मंगलसूत्र  (Mangalsutra ) बना है मंगल शब्द का अर्थ है शुभ और शुद्ध शब्द का अर्थ है धागा मंगलसूत्र का मिला जिला अर्थ होता है दो आत्माओं को जोड़ने वाला शुभ धागा माना जाता है।

इसे ऐसा माना जाता है कि मंगलसूत्र हिंदू धर्म परंपरा के आवश्यक पहलुओं में से एक है और इसकी भारत में हुई और इसे उत्तरी राज्यों द्वारा अपनाया गया है दक्षिण भारत में समुदाय और जाति के आधार पर मंगलसूत्र का नाम और स्टाइल बदल जाती है,और इसे एक लंबा पीला धागा और कुल देवी का प्रतिनिधित्व करने वाला एक सोने का लॉकेट होता है।

Mangalsutraमंगलसूत्र खरीदते समय अगर दिन का रखेंगे ध्यान तो आपके वैवाहिक जीवन में नहीं आएगी समस्याएं
photo by social media

Mangalsutra : मंगलसूत्र का महत्व

मंगलसूत्र हिंदू परंपराओं और संस्कृति में से किसी भी महिलाओं की वैवाहिक  (matrimonial)  स्थिति के पांच प्रतीक माने जाते हैं, मंगलसूत्र, बिछिया, सिंदूर, कांच की चूड़ियां और एक नथुनी इन सभी में से सबसे महत्वपूर्ण मंगलसूत्र को ही माना गया है क्योंकि इससे ही किसी विवाहित महिला का पहचान होता है।

इसी की वजह से हर विवाहित महिला  (Woman  ) को मंगलसूत्र पहनने की सलाह दी जाती है यदि आपका मंगलसूत्र पुराना हो या किसी वजह से टूट जाए तो उसके स्थान पर नया मंगलसूत्र खरीदना चाहिए।

Mangalsutra : किस दिन खरीदना चाहिए न्यू मंगलसूत्र

बेटियों बहू के लिए शादी के लिए मंगलसूत्र की खरीदारी कर रही है तो आपको दिन का विशेष ध्यान रखना चाहिए मंगलसूत्र आपको किसी भी शुभ अवसर पर सोमवार, गुरुवार या शुक्रवार के दिन ही खरीदना चाहिए

साथ ही यदि आप तिथि की बात करें तो अक्षय तृतीया, धनतेरस या पूर्णिमा तिथि के दिन मंगलसूत्र  (Mangalsutra) खरीदना शुभ माना गया है यदि हम इसे खरीदने की तारीख की बात करें तो इसे किसी भी महीने की 3, 12, 21, 31, 6,15 और 24 तारीख को ही खरीदना चाहिए।

Mangalsutra : न्यू मंगलसूत्र कब नहीं खरीदना चाहिए

सुहाग की सामग्री की तरह ही मंगलसूत्र मंगलवार शनिवार के दिन नहीं खरीदना चाहिए,यदि आप इस दिन मंगलसूत्र खरीदती हैं और इसे इस्तेमाल करती हैं

तो असुभ माना जाता है और आपको मंगलसूत्र  (Mangalsutra) अमावस्या तिथि के दिन खरमास के पितृ पक्ष में या फिर मलमास में भी ना खरीदने की सलाह दी जाती है, इन दिनों में किसी भी नई चीज को खरीदना या इस्तेमाल करना अशुभ माना जाता है मुख्य रूप से सुहाग की किसी भी सामग्री को खरीदने से इस दिन बचना चाहिए।

Mangalsutraमंगलसूत्र खरीदते समय अगर दिन का रखेंगे ध्यान तो आपके वैवाहिक जीवन में नहीं आएगी समस्याएं
photo by social media

Mangalsutra : मंगलसूत्र के ज्योतिष लाभ

मंगलसूत्र ज्योतिष के अनुसार बहुत ही शुभ और महत्वपूर्ण ( Important ) माना जाता है। ज्योतिष में मान्यता है कि काली मोतियों वाला मंगलसूत्र विवाह की पवित्रता को बनाए रखते हुए पति-पत्नी के रिश्ते को मजबूत बनाता है, मंगलसूत्र महिला के शरीर में सूर्य नारी और उत्तेजित करता है

मंगलसूत्र में सोना धातु का भी इस्तेमाल किया जाता है जो महिलाओं  (Woman  )को सकारात्मक ऊर्जा प्राप्त करता है और इसे किसी भी बुरी नजर से दूर रखता है, अगर कोई महिला सही नियमों के अनुसार मंगलसूत्र पहनती है तो पति-पत्नी के बीच प्यार और प्रतिबद्धता बढ़ाने के लिए बहुत ही शुभ माना जाता है।

Also Read –  Bridal Mehndi Design : मेहंदी की ये खूबसूरत डिज़ाइन ब्राइडल के हाथो पर खूब जचेगी

सुलेखा साहू

समाचार संपादक @ हुड़दंग न्यूज (दबंग शहर की दबंग खबरें)समाचार / लेख / विज्ञापन के लिए संपर्क कीजिये-  hurdangnews@gmail.com

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button