व्यापार

Mutual Fund SIP: निवेश पाई पर नज़र रखें; एसआईपी से रुपये की औसत लागत का लाभ कैसे प्राप्त करें? विशेषज्ञ की राय

Mutual Fund SIP – जानकारों का मानना ​​है कि एसआईपी के जरिए हर महीने एक निश्चित रकम निवेश करने का विकल्प है। एसआईपी का लाभ यह है कि यह एक लंबी अवधि का निवेश है, जहां चक्रवृद्धि लाभ उपलब्ध हैं। क्योंकि एसआईपी रुपये की औसत लागत पर काम करता है।

photo By Google

Mutual Fund SIP –  अगर आप इक्विटी मार्केट में सीधे जोखिम लेने से डरते हैं, तो आप म्यूचुअल फंड के जरिए पूंजी बाजार के आकर्षक रिटर्न का लाभ उठा सकते हैं। डायवर्सिफिकेशन की वजह से म्यूचुअल फंड में निवेश डायरेक्ट इक्विटी से ज्यादा सुरक्षित है।

म्युचुअल फंड में निवेश करना आज के समय में बहुत आसान है। इसके लिए आपको एकमुश्त बड़ी रकम की जरूरत नहीं है। SIP यानी सिस्टमैटिक इन्वेस्टमेंट प्लान के जरिए आप हर महीने म्यूचुअल फंड स्कीमों में निवेश कर सकते हैं. यह बैंक के आरडी के समान है,

Mutual Fund SIP – लेकिन रिटर्न बाजार के प्रदर्शन पर आधारित होता है। जानकारों का मानना ​​है कि छोटी बचत में नियमित निवेश के लिए एसआईपी एक अच्छा विकल्प है। एसआईपी का लाभ लंबी अवधि के निवेश में है, जहां चक्रवृद्धि लाभ उपलब्ध हैं। क्योंकि एसआईपी रुपये की औसत लागत पर काम करता है।

Mutual Fund SIP – एसआईपी क्या है?

SIP यानी सिस्टमैटिक इन्वेस्टमेंट प्लान म्यूचुअल फंड स्कीमों में नियमित निवेश का एक तरीका है। इसमें साप्ताहिक, मासिक, त्रैमासिक, वार्षिक निवेश विकल्प हैं।

आप कम से कम 500 के साथ निवेश कर सकते हैं। कई फंडों में न्यूनतम 100 रुपये का निवेश भी होता है। SIP के जरिए लॉन्ग टर्म वेल्थ क्रिएशन आसान है। SIP जितनी जल्दी शुरू की जाती है, कंपाउंडिंग में वह उतना ही अधिक लाभदायक होता है।

बाजार के उतार-चढ़ाव को देखते हुए एसआईपी के जरिए निवेश करना काफी बेहतर विकल्प है। SIP में निवेश करना कम जोखिम भरा होता है। भविष्य में एसआईपी राशि बढ़ाने का भी विकल्प है।

Mutual Fund SIP – एसआईपी: औसत लागत का लाभ रु

बीपीएन फिनकैप के निदेशक अमित कुमार निगम ने कहा, “एक निवेशक इस बारे में बहुत कुछ अनुमान लगाता है कि बाजार में कब प्रवेश करना है।

यानी अभी बाजार में निवेश का माहौल है या नहीं। लेकिन, एक अनुभवी पेशेवर के लिए यह जानना मुश्किल होता है कि बाजार में कब प्रवेश करना है या कब बाहर निकलना है।

हम अक्सर भावनाओं पर भरोसा करते हैं और बाजार की स्थितियों से प्रभावित होते हैं। SIP के जरिए निवेश करने का एक फायदा यह है कि यह रुपी कॉस्ट एवरेजिंग पर काम करता है।

अर्थात् रुपये की लागत माध्य के अनुमान की संभावना को कम कर देती है। रुपये औसत पद्धति में, हम नियमित अंतराल पर एक निश्चित राशि का निवेश करते हैं, भले ही बाजार ऊपर या नीचे हो, निगम कहते हैं।

यह सुनिश्चित करता है कि जब बाजार नीचे होता है तो हम अधिक इकाइयाँ खरीदते हैं और जब यह ऊपर होता है तो कम। यह दृष्टिकोण लंबे समय में प्रति यूनिट हमारी औसत लागत को कम करता है।

एसआईपी इसी सिद्धांत पर काम करता है। इसका सीधा सा मतलब है कि अगर निवेश को लंबी अवधि के लिए रखा जाता है तो गिरावट का ज्यादा असर नहीं होगा।

Mutual Fund SIP – ऑल टाइम हाई SIP AUM

एसोसिएशन ऑफ म्यूचुअल फंड्स इन इंडिया के आंकड़ों के मुताबिक, एसआईपी खातों की संख्या अगस्त में 12,693.45 करोड़ रुपये के निवेश के साथ 5.71 करोड़ के उच्च स्तर पर पहुंच गई।

Mutual Fund SIP – एसआईपी एयूएम  6.39 लाख करोड़ रुपये के सर्वकालिक उच्च स्तर पर पहुंच गया। अगस्त 2022 में 21.13 लाख नए SIP खाते पंजीकृत किए गए। एम्फी के अनुसार, खुदरा निवेशकों की बढ़ती दिलचस्पी के कारण एसआईपी एयूएम सर्वकालिक उच्च स्तर पर है

एसआईपी पोर्टफोलियो और कुल पोर्टफोलियो और म्यूचुअल फंड (Mutual Fund SIP) का एयूएम भी अब तक के उच्चतम स्तर पर है। म्यूचुअल फंड उद्योग में प्रबंधन के तहत कुल संपत्ति में खुदरा निवेशकों की हिस्सेदारी 50 प्रतिशत से अधिक है।

photo By Google

Also Read –  Cement – मकान बनाने खुशखबरी, घट गए सरिया, सीमेंट सहित इन चीजों के दाम

Also Read – Maruti Alto फिर अपने नए अंदाज में,फीचर्स के साथ लुक भी है बहुत जबरदस्त,देखिए

Also Read – Taarak Mehta – नहीं रही दया बैन

Also Read – पांच साल में भी 63 करोड़ के निर्माण कार्य ठण्डे बस्ते में

Important  अपने आसपास की खबरों को तुरंत पढ़ने के लिए एवं ज्यादा अपडेट रहने के लिए आप यहाँ Click करके हमारे App को अपने मोबाइल में इंस्टॉल कर सकते हैं।

Important :  हमारे Whatsapp Group से जुड़ने के लिए यहाँ Click here करें। 

हुड़दंग न्यूज

हुड़दंग न्यूज (दबंग शहर की दबंग खबरें) संवाददाता की आवश्यकता है- संपर्क कीजिये-  hurdangnews@gmail.com

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button