अन्य

National News : Bipin Rawat हरिद्वार में विसर्जित करने के लिए जनरल बिपिन रावत की बेटियों ने एकत्र की माता-पिता की अस्थियां

नई दिल्ली: भारत के पहले चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ जनरल Bipin Rawat और उनकी पत्नी मधुलिका रावत की बेटियों ने शनिवार को दिल्ली के श्मशान घाट से अपने माता-पिता की अस्थियां एकत्र कीं।

समाचार एजेंसी एएनआई ने कृतिका और तारिणी की तस्वीरें पोस्ट कीं, जब उन्होंने राजधानी के दिल्ली छावनी क्षेत्र के बरार स्क्वायर श्मशान में कुछ लोगों के साथ बातचीत की।

परिवार ने कहा है कि जनरल रावत और मधुलिका रावत की अस्थियां, जिनका बरार स्क्वायर श्मशान में एक ही साथ अंतिम संस्कार किया गया था, उनको उत्तराखंड के हरिद्वार में गंगा में विसर्जित किया जाएगा।

जनरल रावत के बहनोई यशवर्धन सिंह ने कहा, “हम कल सुबह-सुबह अस्थी कलश उठाएंगे और फिर हरिद्वार जाएंगे, जहां उनको पवित्र गंगा में विसर्जित किया जाएगा और कुछ अनुष्ठान किए जाएंगे।”

इस मामले से वाकिफ एक व्यक्ति ने समाचार एजेंसी एएनआई को बताया, “इस अवसर पर रक्षा राज्य मंत्री अजय भट्ट और राज्य के कई अन्य वरिष्ठ गणमान्य व्यक्ति मौजूद रहेंगे।”

जनरल Bipin Rawat की बेटियों कृतिका और तारिणी ने तमिलनाडु के कुन्नूर में एक हेलीकॉप्टर दुर्घटना में उनके और 11 सशस्त्र बलों के जवानों के मारे जाने के दो दिन बाद शुक्रवार को अपनी मां मधुलिका रावत के साथ एक सैन्य सैन्य समारोह में अपने पिता का अंतिम संस्कार किया।

जनरल Rawat, उनकी पत्नी और रक्षा सलाहकार ब्रिगेडियर एलएस लिद्दर के अलावा उनके स्टाफ ऑफिसर लेफ्टिनेंट कर्नल हरजिंदर सिंह, विंग कमांडर पृथ्वी सिंह चौहान, स्क्वाड्रन लीडर कुलदीप सिंह, जूनियर वारंट ऑफिसर राणा प्रताप दास, जूनियर वारंट ऑफिसर अरक्कल प्रदीप, हवलदार सतपाल राय, नायक गुरसेवक सिंह, नायक जितेंद्र कुमार, लांस नायक विवेक कुमार और लांस नायक बी. साई तेजा की भी कुन्नूर हेलिकॉप्टर दुर्घटना में मौत हो गई।

दुर्घटना में जीवित बचे ग्रुप कैप्टन वरुण सिंह का इलाज बेंगलुरु के वायु सेना कमान अस्पताल में किया जा रहा है, जहां उनकी हालत गंभीर लेकिन स्थिर बताई जा रही है।

केंद्र ने दुर्घटना की ‘ट्राई सर्विस’ जांच का आदेश दिया है, जो भारत के शीर्ष सैन्य अधिकारियों के साथ सबसे खराब हवाई दुर्घटनाओं में से एक है। जांच की अध्यक्षता एयर मार्शल मानवेंद्र सिंह, एयर ऑफिसर कमांडिंग-इन-चीफ ट्रेनिंग कमांड करेंगे।

जनरल रावत ने इस महीने के अंत में भारतीय सेना प्रमुख के रूप में सेवा करने के बाद देश के पहले त्रि-सेवा प्रमुख के रूप में दो साल पूरे किए थे।

Credit : news24

हुड़दंग न्यूज

हुड़दंग न्यूज (दबंग शहर की दबंग खबरें) संवाददाता की आवश्यकता है- संपर्क कीजिये-  hurdangnews@gmail.com

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button