अन्यमीडिया जगत की हलचल

Online Class: ऑनलाइन क्लास भी आफत बनी! बच्चों में बढ़ रही है आंख की बीमारी

मुंबई: कोरोना महामारी (Covid-19) के बाद पढ़ाई के लिए ऑनलाइन क्लास (Online Classes) बच्चों के लिए घातक साबित हो रही है. ऑनलाइन क्लास से बढ़े स्क्रीन टाइम के कारण बच्चों में आंख की बीमारी (Eye Disease) बढ़ रही है. ऑनलाइन क्‍लास (Online Classes), मोबाइल, टीवी से बच्‍चों की आंखों को नुकसान पहुंच रहा है और बच्चे ‘मायोपिया’ के शिकार हो रहे हैं. मायोपिया आंखों का ऐसा दोष है जिसमें निकट की चीजें तो साफ-साफ दिखतीं हैं, लेकिन दूर की रोशनी धुंधली हो जाती है. चाहे बच्चे हों या बड़ें, सभी का अधिकांश समय ऑनलाइन बीत रहा है.

सातवीं कक्षा के 12 वर्षीय छात्र आदि चंद्रा ने कहा: “महामारी से पहले, मैं लगभग दो घंटे तक स्क्रीन पर था। मुझे चक्कर आ रहा है, मुझे उल्टी जैसा महसूस हो रहा है।

फोर्टिस हीरानंदानी अस्पताल के डॉ. हर्षवर्धन घोरपड़े ने कहा, “बच्चों में सूखी आंखें बहुत आम हो गई हैं। आंखों में संक्रमण भी आम हो गया है। सबसे महत्वपूर्ण बात यह है कि मायोपिया घटाव शक्ति को बढ़ाना है। माइनस 4-5 में जाना और सबसे आम उम्र है 6-10 साल। बढ़ती उम्र है, मायोपिया होने की संभावना अधिक होती है और ऑनलाइन (Online Classes) होने के कारण यह काफी बढ़ गई है।

नेत्र रोग विशेषज्ञ डॉ उषा जौहरी ने कहा कि वह एक दिन में 10 बच्चों का इलाज कर रही हैं। “दो साल पहले हम एक हफ्ते में 15 मरीज देखते थे, लेकिन अब लगभग 10 बच्चे हर दिन आंखों की शिकायत के साथ आते हैं,” उन्होंने कहा। इसकी वजह बच्चों का स्क्रीन टाइम (Online Classes) बढ़ना है। अगर आप मोबाइल 1 फुट दूर, लैपटॉप 2 फीट दूर और टीवी 10 फीट दूर देख रहे हैं।

ओखर्ट अस्पताल के नेत्र रोग विशेषज्ञ डॉ संदीप कटारिया ने कहा: बुजुर्गों को भी इस समस्या का सामना करना पड़ रहा है। जब आप स्क्रीन (Online Classes) के ऊपर की ओर देखें तो पलकें झपकाएं, ताकि वह नम रहे, पलक झपकाना बहुत जरूरी है।

हुड़दंग न्यूज

हुड़दंग न्यूज (दबंग शहर की दबंग खबरें) संवाददाता की आवश्यकता है- संपर्क कीजिये-  hurdangnews@gmail.com

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button