देश

Power Crisis: 81 कोल प्लांट के पास 5 दिनों से भी कम बचा कोयला,खतरा Black Out का

Power Crisis: देश इस गर्मी में बिजली संकट (Power Crisis) से जूझ रहा है. देश ने शुक्रवार को रिकॉर्ड 207 गीगावाट ऊर्जा मांग पूरी की। लेकिन फिर भी देश के कई हिस्से लंबे समय से बिजली कटौती का सामना कर रहे हैं।

कोयले की कमी के संकट से निपटने के लिए रेलवे ने 42 ढुलाई ट्रेनें शुरू की हैं

देश में बिजली की मांग रिकॉर्ड स्तर पर

ऊर्जा मंत्रालय ने 29 अप्रैल की रात एक ट्वीट में कहा कि देश की 206 गीगावाट बिजली की मांग शुक्रवार दोपहर 2.50 बजे पूरी की गई. यह भारत के लिए सबसे बड़ा ईंधन आपूर्ति रिकॉर्ड है।

कुछ दिन पहले बिजली मंत्रालय ने पिछले साल जुलाई 2021 में ईंधन आपूर्ति का रिकॉर्ड तोड़ते हुए ट्वीट किया था। वहीं, मंत्रालय ने कहा कि मई-जून में बिजली की मांग 215-220 गीगा वाट तक पहुंच सकती है।

किसानों को नहीं मिल रही मिट्टी में नमी

देश में ऊर्जा की बढ़ती मांग (Power Crisis) को अर्थव्यवस्था के लिए अच्छे संकेत के रूप में देखा जा रहा है। हालांकि, मौजूदा हालात में मसला सिर्फ इंडस्ट्री की डिमांड का नहीं है। इस साल मार्च और अप्रैल दोनों ने दशकों के गर्मियों के रिकॉर्ड तोड़ दिए। ऐसे में आम उपभोक्ताओं की परेशानी भी काफी बढ़ गई है। साथ ही किसानों को अगली फसल के लिए अपने खेत तैयार करने होंगे। गर्मी के कारण उन्हें फसल बोने के लिए पर्याप्त नमी नहीं मिल पा रही है। ऐसे में उन्हें सिंचाई के लिए ज्यादा बिजली की जरूरत होती है।

देश में बिजली की कमी

मंत्रालय की वेबसाइट नेशनल पावर पोर्टल के मुताबिक 28 अप्रैल को देश में 10,770 मेगावाट बिजली की कमी थी। कई राज्यों में लंबे समय से बिजली कटौती देखी गई है। मंत्रालय के अनुसार 29 अप्रैल को अधिकतम मांग 199,000 मेगावाट थी, जिसमें से केवल 188222 मेगावाट की आपूर्ति की गई थी।

ऊर्जा की मांग (मेगावाट में)

पीक मांग 199000

पीक आपूर्ति 188222

कमी -10778

स्रोत- NPP, 28 अप्रैल, 2022

81 कोयला संयंत्र में 5 दिनों से भी कम समय का कोयला

कोयले की आपूर्ति बढ़ाने के लिए रेलवे ने स्पेशल ट्रेनें तैनात की हैं। देश में कोयला आधारित बिजली (Power Crisis) संयंत्रों के लिए 28 दिनों का कोयला आरक्षित मानक निर्धारित किया गया है। लेकिन देश के करीब 61 बिजली संयंत्रों में सिर्फ 5 दिन कम कोयला बचा है. वहीं, 47 प्लांट ऐसे हैं जिनके पास सिर्फ 6-15 दिनों के लिए कोयले का भंडार है। केवल 13 बिजली (Power Crisis) संयंत्रों के पास 16 दिनों से 25 दिनों के कोयला भंडार हैं।

Coal Crisis: देश में मडरा रहा कोयला संकट, सिंगरौली में भी कट रही बिजली
Coal Crisis: देश में मडरा रहा कोयला संकट, सिंगरौली में भी कट रही बिजली

Also Read –     IAS Tina Dabi ने की सगाई, इस अधिकारी से जल्द रचाएंगी शादी

Also Read13 महीने पुरानी Hero Splender plus सेल्फ सिर्फ रु 15000, विक्रेता विवरण देखें

Read More :  UP Election: अखिलेश यादव ने किए बड़े वादे

Important  अपने आसपास की खबरों को तुरंत पढ़ने के लिए एवं ज्यादा अपडेट रहने के लिए आप यहाँ Click करके हमारे App को अपने मोबाइल में इंस्टॉल कर सकते हैं।

Important :  हमारे Whatsapp Group से जुड़ने के लिए यहाँ Click here करें।

हुड़दंग न्यूज

हुड़दंग न्यूज (दबंग शहर की दबंग खबरें) संवाददाता की आवश्यकता है- संपर्क कीजिये-  hurdangnews@gmail.com

Related Articles

Back to top button