मध्यप्रदेश

चार लाख का बिल नहीं देने पर शव देने से किया इनकार

इंदौर  –  अस्पताल में भर्ती कोरोना संक्रमितों के बिल तमाम कोशिशों के बाद भी लाखों में आ रहे हैं। कई परिवार अस्पतालों के बिल भर-भर कर कर्ज के बोझ तले दब गए हैं। कई बार अस्पताल में बिल न जमा करने और इस दौरान मरीज की मौत हो जाने पर प्रबंधक द्वारा शव बंधक बना लिए जाने के मामले सामने आते हैं। शनिवार सुबह भी एक ऐसा ही मामला सामने आया। देवगुराडिय़ा स्थित एसएमएस सिनर्जी अश्पताल में इलाजरत निर्भयसिंह सोलंकी (48 वर्ष), जो 3 मई को भर्ती किए गए थे, जो कि कोरोना पाजिटिव थे। इनकी इलाज के दौरान शुक्रवार देर रात को मौत हो गई। शनिवार सुबह उनके परिजनों को मौत की खबर लगी तो वो अस्पताल पहुंचे। प्रबंधन से शव देने को कहा तो प्रबंधन ने परिजनों को 3 लाख 94 हजार का बिल थमा दिया। परिजनों से कहा कि बिल जमा करने के बाद ही शव देंगे। इसको लेकर हंगामा होने लगा। मृतक सोलंकी किसान थे और उनके तीन बच्चे हैं। घरवालों के पास पैसों का इंतजाम नहीं है। अस्पताल वाले मानने को राजी नहीं हैं। हंगामे को देखते हुए पुलिस भी पहुंच गई थी। अस्पताल प्रबंधन पर आरोप लगाते हुए परिजनों का कहना था कि जब हम इलाज के लिए अस्पताल पहुंचे थे तो सारी औपचारिकताएं पूरी की थीं। तब हमने आयुष्मान कार्ड के बारे में पूछा। अस्पताल वालों ने कहा कि इससे इलाज हो जाएगा। हमारे अलावा कई लोग यहां आयुष्मान कार्ड से इलाज करवा रहे हैं। बावजूद हमसे पैसा मांगा जा रहा है। हंगामे पर पुलिस टीम वहां पहुंची। परिजनों ने उन्हें सारी घटना बताई। एसडीएम से लेकर तो अन्य प्रशासनिक अधिकारियों को फोन किया। अधिकारी परिजनों को एक-दूसरे का नंबर देकर कहते रहे कि ये आपकी मदद करेंगे, लेकिन कहीं से कोई मदद नहीं मिली। 

वहीं अस्पताल के प्रबंधक विनोद पंचोली का कहना था कि हमारे अस्पताल में आयुष्मान कार्ड नहीं चल रहा था। शुक्रवार से ही उसकी प्रोसेस हुई है। अब कार्ड के माध्यम से कल से इलाज शुरू हो चुका है। लेकिन सोलंकी पिछले 13 दिनों से भर्ती थे। शुक्रवार मौत हुई है। हमने सोलंकी के परिवार से कहा कि बिल के हिसाब से हमें 2 लाख 28 हजार रुपए जमा करवा दें, लेकिन वे रुपए नहीं दे रहे। बाद में जैसे-तैसे मामला सुलझाकर परिजनों को शव सौंपा गया।

हुड़दंग न्यूज

हुड़दंग न्यूज (दबंग शहर की दबंग खबरें) संवाददाता की आवश्यकता है- संपर्क कीजिये-  hurdangnews@gmail.com

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button