मध्यप्रदेश

Singrauli : नल जल योजना के ठेकेदार ने सोन नदी से रेता का किया चोरी

Singrauli : जिले से करीब 120 किलोमीटर दूर चितरंगी तहसील अंतर्गत आने वाली सोन नदी से अवैध रेत खनन पूरी तरह रोक लगाने में प्रशासन असमर्थ नजर आ रहा है।

Singrauli : जानकारी के अनुसार जहां एक तरफ चितरंगी क्षेत्र में कई बड़े-बड़े सरकारी निर्माण कार्यों में ठेकेदारों द्वारा धड़ल्ले से सोन नदी की चोरी की रेत से जमकर निर्माण कार्य किया जा रहा है। अवैध रेत खनन और परिवहन को लेकर अधिकारी भी चुप्पी साधे बैठे है।

जिस कारण ठेकेदार ने रेत सोन नदी के देवरा घाट से अवैध रेत का खनन और परिवहन कर देवरा गांव के पंचमुखी हनुमान मंदिर के आस-पास रेत का भंडारण किया है। वही सरकारी निर्माण कार्य करने वाले ठेकेदारों ने कई गांव में रेत का भंडारण किया है और जरूरत के हिसाब से रेत का निर्माण कार्यों में उपयोग कर रहे हैं। बता दें चितरंगी तहसील में नल जल योजना सहित कई करोड़ों रुपए के काम निर्माणाधीन हैं।

नल जल योजना का काम देवरा गांव में भी किया जा रहा है। जिस कार्य में ठेकेदार द्वारा सोन नदी की चोरी की रेत खरीद कर ग्राम देवरा में पंचमुखी हनुमान मंदिर के दोनों तरफ भारी मात्रा में स्टाक किया गया है। बताया जा रहा है कि यह रेत बिना रायल्टी के बहुत सस्ते में खरीदी जा रही है। जिससे ठेकेदार को तो फ ायदा मिल रहा है लेकिन सरकार को राजस्व का चूना लगाया जा रहा है। तहसील क्षेत्र के जितने भी निर्माण कार्य चल रहे है उनमें ठेकेदारों के द्वारा धड़ल्ले से चोरी की रेत का इस्तेमाल किया जा रहा है।

हालांकि अवैध रेत की जानकारी जब ग्रामीणों को लगी तो तब उक्त ठेकेदार अपने काले कारनामों पर पर्दा डालने के लिए यूपी से रायल्टी के साथ रेता खरीदना शुरू कर दिया है और भण्डारीत रेता पर निगरानी रख रहा है ताकी कोई उठा ना ले जाए और उक्त ठेकेदार समय के साथ -साथ मौके की तलास में हैं।

Also Read –  Bridal Mehndi Design : मेहंदी की ये खूबसूरत डिज़ाइन ब्राइडल के हाथो पर खूब जचेगी

नल जल योजना के ठेकेदार ने सोन नदी से रेता का किया चोरी
नल जल योजना के ठेकेदार ने सोन नदी से रेता का किया चोरी

सुलेखा साहू

समाचार संपादक @ हुड़दंग न्यूज (दबंग शहर की दबंग खबरें)समाचार / लेख / विज्ञापन के लिए संपर्क कीजिये-  hurdangnews@gmail.com

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button