मनोरंजन

Smartphone, laptop हो सकते हैं महंगे

भारत में अगले कुछ दिनों में स्मार्टफोन , टेबलेट और लैपटॉप की उपलब्धता पर असर पड़ सकता है। अमेरिकी, चीनी और कोरियन कंपनियों द्वारा चीन में बने डिवाइस के आयात के लिए सरकार के पास 80 आवेदन छह महीने से अधिक समय से लंबित हैं।

उद्योग जगत के सूत्रों के अनुसार पिछले साल नवंबर से ही इस तरह के कंपोनेंट के आयात से संबंधित आवेदन लंबित हैं। स्मार्टफोन और लैपटॉप बनाने वाली कंपनियां चीन से जिन से सामानों का आयात करती हैं उनमें वाईफाई माड्यूल, ब्लूटूथ स्पीकर, वायरलेस इयरफोन आदि शामिल हैं।

स्मार्टफोन, स्मार्ट वॉच और लैपटॉप आदि बनाने में वाईफाई मॉड्यूल का इस्तेमाल किया जाता है, जिसकी आयात की अनुमति देने में जानबूझकर देरी करने का आरोप लगाया जा रहा है। इस वजह से अमेरिकी कंप्यूटर निमाता कंपनी डेल और एचपी के साथ चीन की स्मार्टफोन कंपनी शाओमी, ओपो, विवो और लेनोवो अपने नए प्रोडक्ट की लॉन्चिंग डेट आगे बढ़ा रही हैं।

The availability of smartphones, tablets and laptops in India in the next few days may be affected. The government has 80 applications pending for more than six months for import of the device made in China by American, Chinese and Korean companies. According to industry sources, applications related to the import of such components have been pending since November last year.

Smartphone and laptop companies that import goods from China include WiFi modules, Bluetooth speakers, wireless earphones, etc. WiFi modules are used to make smartphones, smart watch and laptops, etc., which are being accused of intentionally delaying in allowing imports. Because of this, Chinese smartphone companies Xiaomi, Oppo, Vivo and Lenovo are pushing forward the launch dates of their new products along with US computer maker Dell and HP.

हुड़दंग न्यूज

हुड़दंग न्यूज (दबंग शहर की दबंग खबरें) संवाददाता की आवश्यकता है- संपर्क कीजिये-  hurdangnews@gmail.com

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button