मध्यप्रदेश

मोबाइल में गेम खेलने की लगी ऐसी लत कि बालक पर हुआ 15 हजार कज

घटनाक्रम के अनुसार 6 मई को एक15 वर्षीय बालक अपने घर से बिना बताए चले गया, जिसका कारण था कि बच्चा फ्री फायर गेम खेला करता था जहां उसे उसकी लत लग गई थी और वह कर्जे मे डूब गया था। बच्चे की गुम होने के संबंध में 6 मई को वार्ड नंबर 6 निवासी संतोष चौधरी के द्वारा रात्रि करीबन 9 बजे थाने में पहुंचकर सूचना दर्ज कराई गई। बालक के पिता संतोष के द्वारा बच्चे का नाम प्रेम चौधरी उम्र 15 साल बताया गया। बच्चे के पिता संतोष चौधरी ने पुलिस को बताया कि प्रेम चौधरी 6 मई की सुबह 11 बजे के बाद से लापता है। बच्चे के गुम होने के संबंध में पुलिस के द्वारा शिकायत दर्ज कर त्वरित कार्यवाही करते हुए अनुविभागीय पुलिस अधिकारी दुर्गेश आर्मो के नेतृत्व पुलिस की 2 टीमें बनाई गई जिसमें टीम के द्वारा बच्चे के घर के आस-पास खोजबीन की गई। इसके साथ ही जिले के समस्त थानों में भी बच्चे के गुम होने की सूचना दे दी गई थी। बच्चे के पास एक मोबाइल फोन भी रखा हुआ था जिसके संबंध में कंट्रोल रूम मे साइबर सेल के द्वारा मोबाइल की लोकेशन के बारे में पता लगाया जा रहा था। इसी बीच 6 मई को रात को 11 बजे महाराष्ट्र के भंडारा जिला अंतर्गत अंदड़गांव थाने से सूचना प्राप्त हुई कि एक बालक संदिग्ध स्थिति में घूमता हुआ पाया गया है, जिसका नाम प्रेम चौधरी है। इस संबंध में एसडीओपी के द्वारा संबंधित थाना प्रभारी से बात की गई तथा पहचान के लिए फोटो बुलाई गई जिसमें गुम हुए बच्चे की फोटो मिलने पर रात्रि में ही लांजी पुलिस टीम के द्वारा बालक को वापस लांजी ला लिया था। साइकिल से भंडार पहुंचा था बालक पुलिस ने बताया कि बालक 6 मई को सुबह करीब 11 बजे अपने घर से साइकिल मे सवार होकर निकला था जिसे महाराष्ट्र के भंडारा जिला अंतर्गत अंदड़गांव थाने की पुलिस के द्वारा रात्रि 11 बजे पकड़ा गया था। बालक का भंडारा तक पहुंचने के कारण के संबंध में पूछा गया तो बताया कि बालक प्रेम चौधरी फ्री फायर गेम खेलता था। वह फ्री फायर गेम खेलते खेलते अपने दोस्तों से पैसे उधार लिया हुआ था, जिसके चलते बालक पर करीब 15 हजार रूपये का कर्ज हो गया था। इस बात को लेकर बालक को डर था कि अगर मातापिता को यह बात पता चल गई तो डांट पड़ेगी, इस कारण वह घर से साइकिल मे सवार होकर निकल गया था, जिसे लांजी पुलिस टीम के द्वारा मौके पर पहुंचकर बच्चे को वापस भंडारा से लांजी लाया गया। बच्चे के गुम होने की शिकायत दर्ज कराने के बाद में एसडीओपी दुर्गेश आर्मो के निर्देशन में व थाना प्रभारी रजनीकांत दुबे के मार्गदर्शन में टीम गठित की गई थी. जिनमें राजकुमार सिंग एस आई, लक्ष्मीप्रसाद बाहेश्वर एएसआई, आरक्षक राघवेंद्र ठाकुर, नरेंद्र सोनवे शामिल थे और इनके द्वारा ही भंडारा जिले के अंतर्गत अंदड़गांव से बच्चे को लांजी सकुशल वापस लाया गया। इधर नगरवासियों का कहना है कि नौ अप्रैल से सरकार ने कोरोना संक्रमण को रोकने लाकडाउन किया हुआ है। इस लाकडाउन में बच्चे पढ़ाई करने की बजाय मोबाइल पर गेम खेलते रहते है, जिसका इस रूप में परिणाम देखते मिलता है। लेकिन बच्चों को गेम खेलने से रोका नहीं जा रहा है। जिसके भविष्य में और भी भयांनक दुष्पपरिणाम देखने मिल सकते है।

हुड़दंग न्यूज

हुड़दंग न्यूज (दबंग शहर की दबंग खबरें) संवाददाता की आवश्यकता है- संपर्क कीजिये-  hurdangnews@gmail.com

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button