मनोरंजन

Woman Bangles : भारतीय महिलाएं चूड़ियाँ क्यों पहनती हैं, जानिए क्या है इसकी महत्व

Woman Bangles : लड़कियाँ तभी चूड़ियाँ पहनना शुरू करती हैं जब उनकी शादी हो जाती है। चूड़ियों को शादी  (Wedding ) समारोह से जोड़कर देखा जाता है। यह सोलह साजों में से एक है। आजकल बहुत सी महिलाएं चूड़ियां पहनना दकियानूसी विचार मानती हैं।

Woman Bangles : भारतीय महिलाएं चूड़ियाँ क्यों पहनती हैं, जानिए क्या है इसकी महत्व
photo by social media

Woman Bangles उनका मानना ​​है कि ऐसी परंपराएं महिलाओं  (Woman ) को पीछे धकेल रही हैं (भारतीय महिलाएं चूड़ियां क्यों पहनती हैं)। तो क्या चूड़ी पहनना सिर्फ परंपरा का हिस्सा है, क्या यह एक पुरानी मान्यता है जिसे अब ख़त्म कर देना चाहिए, या इसके पीछे कोई विज्ञान है जिसके बारे में आज लोग नहीं जानते?

शादीशुदा महिलाएं अक्सर अपने हाथों में चूड़ियां पहनती हैं। हर गांव के लोग इसे विवाह का संकेत मानते हैं। इसे दादी से लेकर मां तक ​​पहने हुए देख सकती हैं। खैर, आज हम आपको चूड़ियां  (bangles) पहनने के पीछे का वैज्ञानिक कारण बताने जा रहे हैं।

  • न्याज18 हिंदी सीरीज अजब-गजब ज्ञान के तहत हम आपके लिए लेकर आए हैं दुनिया से जुड़े ऐसे रोचक तथ्य जो कम ही लोग जानते हैं। आज हम बात करने जा रहे हैं कि महिलाएं चूड़ियां क्यों पहनती हैं, इसका वैज्ञानिक कारण क्या है? दरअसल, सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म Quora पर किसी ने इससे जुड़ा सवाल पूछा था. कुछ ने इसका जवाब भी दिया है, आइए देखें उन्होंने क्या कहा.

महिलाएं चूड़ियाँ क्यों पहनती हैं?

विशेषज्ञों के अनुसार, पारंपरिक रूप से विवाहित महिलाओं का चूड़ियाँ न पहनना अशुभ माना जाता है। क्योंकि ऐसा माना जाता था कि जो महिलाएं चूड़ियाँ नहीं पहनती हैं वे नकारात्मक  (negative) ऊर्जा को आकर्षित करती हैं

जो उनके विवाहित जीवन और बच्चों को प्रभावित कर सकती है। यह भी माना जाता था कि यदि घर की महिलाएं  (Woman )  नियमित रूप से चूड़ियाँ पहनती हैं, तो इससे परिवार के सभी सदस्यों की समृद्धि में वृद्धि होती है।

कुछ अध्ययनों से यह भी पता चलता है कि जो महिलाएं चूड़ियाँ पहनती हैं उन्हें चूड़ियाँ नहीं पहनने वाली महिलाओं की तुलना में कम थकान और स्वास्थ्य समस्याएं होती हैं क्योंकि चूड़ियों की सकारात्मकता स्वास्थ्य समस्याओं को दूर रखती है।

चूड़ियाँ एक महिला के पति की भलाई का प्रतीक हैं लेकिन इतना ही नहीं। चूड़ियाँ पहनने से दम्पति के बीच रिश्ता भी मजबूत होता है। अगर आपकी कुंडली में ग्रह कमजोर  (Weak) हैं तो चूड़ियां पहननी चाहिए। यह ग्रह को मजबूत करने और आपको एक महान जीवन जीने में मदद करेगा।

Woman Bangles : Quora पर लोग क्या कह रहे हैं?

कलाई सेलवन नाम के एक यूजर ने कहा, “चूड़ियाँ भारतीय महिलाओं के आकर्षण का प्रतिनिधित्व करती हैं। ये कई रंगों में आते हैं और भारतीय परंपरा में इनका विशेष महत्व (Important ) है। शादी के बाद चूड़ी पहनने से अच्छी सेहत, सौभाग्य और घर में सुख-समृद्धि आती है।”

यशस्वी वर्मा नाम के एक यूजर ने कहा, ‘जब महिलाएं चूड़ियां पहनती हैं तो वह शादीशुदा हो जाती हैं, ऐसे में वह शादीशुदा दिखने के लिए चूड़ियां पहनती हैं।’ उनके अलग-अलग रंग अलग-अलग चीजों का प्रतिनिधित्व  (Representation ) करते हैं।

Woman Bangles : भारतीय महिलाएं चूड़ियाँ क्यों पहनती हैं, जानिए क्या है इसकी महत्व
photo by social media

Woman Bangles : कांच की चूड़ियाँ पहनने का वैज्ञानिक कारण क्या है?

Woman Bangles : ये तो आम आदमी के जवाब हैं, आइए अब देखते हैं कि चूड़ियां पहनने के पीछे क्या विज्ञान है। ‘साइंस बिहाइंड इंडियन कल्चर’ और ‘ऑल इंडिया राउंड अप’ वेबसाइट  (Website)  की रिपोर्ट्स के मुताबिक, चूड़ियां पहनने के पीछे कई वैज्ञानिक कारण हैं। कलाई में चूड़ियाँ पहनने से लगातार घर्षण होता रहता है।

  • इससे रक्त संचार ठीक से होता है। साथ ही ऐसा माना जाता है कि कलाई पर कई एक्यूप्रेशर  (Accupressure) पॉइंट होते हैं, जिन्हें बार-बार दबाने से महिलाओं के हार्मोन संतुलित हो जाते हैं। यह भी एक कारण है कि पहले के समय में पुरुष भी चूड़ियाँ पहनते थे। कांच की चूड़ियाँ इसलिए पहनी जाती हैं क्योंकि इनकी खनक की आवाज़ महिलाओं से नकारात्मक ऊर्जा को दूर रखती है।

भारत के कई हिस्सों में ऐसा माना जाता है कि चूड़ियों की आवाज नवविवाहित महिलाओं  (Waomn ) को नजरों से दूर रखती है। इसके अलावा रंग-बिरंगी चूड़ियां मन को शांत रखने का भी काम करती हैं। भारत के कई हिस्सों में अलग-अलग रंग की चूड़ियाँ पहनी जाती हैं।

चूड़ियाँ पहनने के वैज्ञानिक कारण

विज्ञान का मानना ​​है कि कांच की चूड़ियों को बजाने से उत्पन्न ध्वनि वातावरण में मौजूद नकारात्मक ऊर्जा को नष्ट कर देती है। कलाई के 6 इंच नीचे स्थित एक्यूपंक्चर  (acupuncture)  बिंदुओं को समान रूप से दबाने से शरीर स्वस्थ और जीवंत रहता है।

चूड़ियाँ पहनने का एक वैज्ञानिक कारण भी है। स्वास्थ्य की दृष्टि से चूड़ियाँ पहनना फायदेमंद  (beneficial) हो सकता है। जब आप अपनी कलाई पर चूड़ी पहनती हैं तो इससे घर्षण पैदा होता है जिससे रक्त संचार बढ़ता है। यह घर्षण रक्तचाप बढ़ने की संभावना को भी कम करने में मदद करता है। गर्भवती महिलाओं को भी चूड़ियाँ पहनने की सलाह दी जाती है,

खासकर 7 महीने के बाद। ऐसा माना जाता है कि 7वें महीने के बाद शिशु के मस्तिष्क की कोशिकाएं  (cells) विकसित हो जाती हैं और वे अलग-अलग आवाजों को पहचानने लगती हैं। चूड़ियों की आवाज से बच्चे का मानसिक विकास होता है। इससे जल्द ही मां बनने वाली महिला को भी फायदा होता है क्योंकि यह तनाव से राहत देता है और उसके दिमाग को शांत करता है।

Also Read –  Bridal Mehndi Design : मेहंदी की ये खूबसूरत डिज़ाइन ब्राइडल के हाथो पर खूब जचेगी

सुलेखा साहू

समाचार संपादक @ हुड़दंग न्यूज (दबंग शहर की दबंग खबरें)समाचार / लेख / विज्ञापन के लिए संपर्क कीजिये-  hurdangnews@gmail.com

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button